Eklavya

भाग 1: गुरूभक्त एकलव्य : एक महान आदिवासी (Tribal) नायक

(माननीय सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस मार्कंडेय काटजू और जस्टिस ज्ञानसुधा मिश्रा की खंडपीठ द्वारा माह जनवरी 2011 में दिये गए एक अभूतपूर्व फैसले के पश्चात् महान आदिवासी जननायक, गुरूभक्त एकलव्य के स्मृति में गुरूभक्त कलव्य जयंती सप्ताह के अवसर पर समर्पित) एक कहावत है – ‘‘ईश्वर के घर देर है, अंधेर नहीं।’’ यह कहावत ‘‘एकलव्य’’ नाम…Continue reading भाग 1: गुरूभक्त एकलव्य : एक महान आदिवासी (Tribal) नायक

Eklavya

भाग 2: आदिवासी (Tribal) महानायक गुरूभक्त एकलव्य (अंगुठा कटने के बाद)

अकसरहाँ यह प्रश्न उठता है कि महाभारत ग्रंथ का गुरूभक्त एकलव्य का दायाँ अंगुठा दक्षिणा में दिये जाने के बाद का प्रसंग, महाभारत में कहीं भी नहीं आया है। क्या, महाभारत में गुरूभक्त एकलव्य का प्रसंग दलितों एवं आदिवासियों के उच्च कौशल को दबाये जाते रहने का द्योतक है? या फिर कुछ और ! एक ओर तो महाभारत…Continue reading भाग 2: आदिवासी (Tribal) महानायक गुरूभक्त एकलव्य (अंगुठा कटने के बाद)