Karma Puja

क्या है सरना (sarna) धर्म ?

1. सरना (sarna) धर्म क्या है ? यह दूसरे धर्मों से किन मायनों में जुदा है ? इसका केन्द्रीय आदर्श और दर्शन क्या है ?

2. अक्सर इस तरह के सवाल पूछे जाते हैं। कई सवाल सचमुच जिज्ञाशा के पुट लिए होते हैं और कई बार इसे शरारती अंदाज में भी पूछा जाता है, कि गोया तुम्हारा तो कोई धर्मग्रंथ ही नहीं है, इसे कैसे धर्म का नाम देते हो ? लब्बोलुआब यह होता है कि इसकी तुलना और कसौटी किन्हीं किताब पर आधारित धर्मों और उसकी कट्टरता के सदृश्य बिन्दुवार की जाए।

3. सच कहा जाए तो सरना एक धर्म से अधिक, आदिवासियों के जीने की पद्धति है जिसमें लोक व्यवहार के साथ आध्यमिकता या अध्यात्म भी जुडा हुआ है। आत्मा और परम-आत्मा का आवधारणा और इसका आराधना लोक
जीवन से इतर न होकर लोक और सामाजिक जीवन का ही एक भाग है। धर्म यहॉं लोक जीवन से अलग और विशेष स्वरूप और स्थल में आयोजित कर्म कांडीय गति- विधियों के उलट जीवन के हर क्षेत्र में सामान्य गति- विधियों में गुंफित रहता है।

4. सरना अनुगामी, प्रकृति को ज्यों के त्यों पूजन करता है। वह प्रकृति से अलग उसके किसी कृत्रिम स्वरूप या प्रतीक का निर्माण नहीं करता है। वह घर के चुल्हा, बैल, मुर्गी, पेड़, खेत, खलिहान, चॉंद और सूरज सहित सम्पूर्ण प्राकृतिक प्रतीकों का उसके प्राकृतिक रूप में ही पूजन करता है। वह पेड़ काटने के पूर्व पेड़ से क्षमा याचना करता है। गाय, बैल, बकरियों को जीवन सहचार्य होने के लिए धन्यवाद देता है। पूरखों को निरंतर मार्ग दर्शन और आशीर्बाद देने के लिए भोजन करने, पानी पीने के पूर्व उनका हिस्सा भूमि पर गिरा कर देते हैं। धरती माता को प्रणाम करने के बाद ही खेतीबारी के कार्य शुरू करते हैं। उनके लिए खेत-खलिहान उत्पादन या आय प्राप्त करने का महज एक साधन नहीं है, बल्कि वह उसे अपने परिवार और समाज का अविभाज्य परिवार (inalienable) का अंग मानता है। खेतों की पूजा और आराधना करना सरना के लिए एक अनिवार्य पारिवारिक और सामाजिक कर्तव्य और उतरदायित्व है।

5. आदिवासियों ने सदियों से अपने धर्म को कोई नाम नहीं दिया था। नामकरण तो तब अनिवार्य हो जाता है, जब एक से अधिक चीजें एक जगह होंती हैं और उसमें अंतर करने के लिए दोनों के नाम अलग-अलग किए जाते हैं। आदिवासी इलाकों में हजारों साल से दूसरा कोई धर्म नहीं था, इसलिए जब दूसरे धर्म इन इलाकों में आए तो पहचान के लिए एक नाम रखना जरूरी हो गया और पूजा स्थल (सरना स्थल) के आधार पर प्रकति पूजा पद्धति को सरना धर्म का नाम दे दिया गया। यह बीसवीं सदी के उस काल में हुआ जब प्रकृति का आराधना करने वालों के लिए एक नाम रखना जरूरी हो गया था, क्योंकि तब अनेक धर्म या आराधणा पद्धति का आगमन आदिवासी समाज में हो गया था। इसलिए इस नाम के साथ किसी प्राचीनता का बोध करना उचित नहीं है।

6. सरना धर्म में पूजन पद्धति की परंपरा प्राचीन काल से है, लेकिन यह कहीं भी रूढ नहीं है। इसका एक कारण
समाज में धर्म के प्रति कट्टरता की भावना का लोप होना है। कोई भी सरना, लोक और परलोक के प्रतीकों में से किसी का भी पूजन कर सकता है और किसी का भी न करे तो भी वह सरना ही होता है। कोई किसी एक पेड की पूजा करता है तो जरूरी नहीं कि दूसरा भी उसी पेड की पूजा करे। दिलचस्प और ध्यान देने वाली बात तो यह है कि जो आज एक विशेष पेड़ की पूजा कर रहा है जरूरी नहीं कि वह कल भी उसी पेड की पूजा करे। यहॉं पेड किसी मंदिर, मस्जिद या चर्च की तरह रूढ़ नहीं है। वह तो विराट प्रकृति का खरबों प्रतीक में से सिर्फ एक प्रतीक है और हर पेड़ प्रकृति का जीवंत प्रतिनिधि-प्रतीक है, इसलिए किसी एक पेड़ को रूढ़ होकर पूजन करने का कोई मतलब नहीं। अमूर्त शक्ति की उपासना के लिए एक मूर्त प्रतीक की सिर्फ आवश्यकता वश किसी पेड़ का पूजन करता है।

7. सरना धर्म किसी धार्मिक ग्रंथ और किताब का मोहताज नहीं है। किताब आधारित धर्म में अनुगामी को नियमों के
खूँटी से बांधा गया होता है। जहॉं अनुगामी एक सीमित दायरे में अपने धर्म की प्रैक्टिस करता है। वह दायरे से बाहर नहीं जा सकता है। जहॉं वर्जनाएँ हैं, सीमा है, खास क्रिया क्रमों को करने के खास नियम और विधियॉं हैं, जिसका प्रशिक्षण खास तरीके से दिया जाता है। किताब में लिखित सिद्धांतों, नियमों की रखवाली करने वाले प्रशिक्षित धार्मिक सैनिकों की बाढ़ होती है, जो उसके अनुयायियों को अपने धर्म में चिपका कर रखने की वह सारे क्रियाकर्म करते हैं जिससे वे बाहर न जा सकें। नयी आवधारणाओं पर बोध न कर सकें और उसे न अपना सकें। नियमों को न मानने या भंग करने पर अनुयायी को दण्डित किया जाता है। ध्यान देने की बात है कि किताब आधारित धर्म में दण्डित देने की व्यवस्था है लेकिन उसे बाहर निकालने की व्यवस्था नहीं है। क्योंकि वहाँ धार्मिक वर्चस्व के लिए जनसंख्या का उपस्थित रहना जरूरी है, ताकि उन पर धार्मिक रूप से शासन किया जा सके।

8. किताब या पोथीबद्ध धर्म के इत्तर सरना धार्मिकता के उच्च व्यक्तिगत स्वतंत्रता की गारंटी देने वाला धर्म है।जहॉं सब कुछ प्राकृति से प्रभावित है और सब कुछ प्रकृतिमय है। कोई नियम, वर्जनाएँ नहीं है। कोई केन्द्रीय अवधारणा नहीं है, जिसे मानना अनिवार्य है। आप जैसे हैं वैसे ही बिना किसी कृत्रिमता के सरना हो सकते हैं और प्राकृतिक ढंग से इसे अपने जीवन में अभ्यास कर सकते हैं। जीवंत और प्राणमय प्रकृति, जो जीवन का अनिवार्य तत्व है, आप उसके एक अंग है। आप चाहें तो इसे मान्यता दें या न दें। आप पर किसी तरह की धार्मिक बंदिश नहीं है। जन्म से लेकर मृत्यु तक आप किसी धार्मिक जंजीर से बंधे हुए नहीं हैं। आपके जन्म, शादी और मृत्यु के किसी भी संस्कार में धार्मिक रूप से आप पर नियंत्रण नहीं किया जाता है, न ही किसी संस्कार को करने के लिए किसी धार्मिक ऑथोरिटी से अनुमति प्राप्त
करने की जरूरत है।

9. आप प्रकृति के प्रति अपनी श्रद्धा की अभिव्यक्ति कहीं भी कर सकते हैं या कहीं भी न करें तो भी आपको कोई
मजबूर नहीं करेगा, क्योंकि हर व्यक्ति की भक्ति की शक्ति या शक्ति की भक्ति की अपनी अवधारणाएँ हैं। एक समूह
का अंग होकर भी आपके ”वैचारिक और मानसिक व्यक्तित्व” समूह से भिन्न हो सकता है। अपने वैयक्तिक वधारणा
बनाए रखने और उसे लोक व्यवहार में प्रयोग करने के लिए आप स्वतंत्र है। यही सरना धर्म की अपनी विशेषता
और अनोखापन है। मानवीय वैचारिक स्वतंत्रता की ऐसी उर्वरा भूमि अन्य धर्म में मिलना मुश्किल है।

10. यह किसी रूढ़ बनाए या ठहराए गए धार्मिक, सामाजिक या नैतिक नियमों से संचालित नहीं होता है। आप या तो
सरना स्थल में पूजा कर सकते हैं या जिंदगी भर न करें। यह आपके व्यक्तिगत स्वतंत्रता का भरपूर सम्मान करता है। आप चाहें तो अपने बच्चों को सरना स्थल में ले जाकर वहॉं प्रार्थना करना सिखाएँ या न सिखाएँ। कोई आप पर किसी तरह की मर्जी को लाद नहीं सकता है। प्रत्येक धर्म में धार्मिक संस्कारों की एक सूची होती है, जिसे करना उसके अनुयायी के लिए अनिवार्य है, लेकिन सरना में ऐसी किसी भी तरह के बंधन, नियंत्रण और निर्देशन कहीं नहीं है। आप यहाँ पर परम स्वतंत्र रूप से धार्मिक या अधार्मिक हो सकते हैं। धर्मनिरपेक्षता की आत्मा, सरना धर्म से प्रेरित है।

11. आप धार्मिक, सामाजिक और ऐच्छिक रूप से स्वतंत्र हैं। आपको पकड़ कर न कोई प्रार्थना रटने के लिए हा जाता है, न ही आपको किसी प्रकार से मजबूर किया जाता है कि आप धार्मिक स्थल जाएँ और वहॉं अपनी हाजिरी लगाएँ और कहे गए निर्देशों का पालन करें । सरना धर्म के कर्मकांड करने के लिए कहीं किसी को न प्रोत्साहन किया जाता है न ही इससे दूर रहने के लिए किसी का धार्मिक और सामाजिक रूप से तिरस्कार और बहिष्कार किया जाता है। सरना धर्म किसी को धार्मिक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक रूप से नियंत्रित नहीं करता है और न ही उन्हें अपने अधीन रखने के लिए किसी भी तरह के बंधन बना कर उन पर थोपता है।

12. सरना बनने या बने रहने के लिए कोई नियम या  सीमा रेखा नहीं बनाया गया है। इसमें घुसने के लिए या बाहर निकले के लिए आपको किसी अंतरण अर्थात (धर्मांतरण) करने की जरूरत नहीं है। कोई किसी धार्मिक क्रियाकलाप में शामिल न होते हुए भी सरना बन के रह सकता है। उसके धार्मिक झुकाव या कर्मकांड में शामिल नहीं होने या दूर रहने के लिए कोई सवाल जवाब नहीं किया जाता है। सरना धर्म का कोई पंजी या रजिस्टर नहीं होता है। इसके अनुगामियों के बारे कहीं कोई लेखा जोखा नहीं रखा जाता है, न ही किसी धार्मिक नियमों से संबंधित जवाब के न देने पर नाम ही काटा जाता है।

13. सरना अनुगामी जन्म से मरण तक किसी तरह के किसी धार्मिक सत्ता के निर्देशन, संरक्षण, प्रवचन, मार्गदर्शन या नियंत्रण के अधीन नहीं होते हैं। उसे धार्मिक रूप से आग्रही या पक्का बनाने की कोई कोशिश नहीं की जाती है। वह धार्मिक रूप से न तो कट्टर होता है और न ही धार्मिक रूप से कट्टर बनाने के लिए उसका ब्रेनवाश किया जाता है। क्योंकि ब्रेनवाश करने, उसे धार्मिकता के अंध-कुँए में धकेलने के लिए कोई तामझाम या संगठन नहीं होता है। इसीलिए इसे प्राकृतिक धर्म भी कहा गया है। प्राकृतिक अर्थात् जो जैसा है वैसा ही स्वीकार्य है। इसे नियमों ओर कर्मकांडों के अधीन परिभाषित भी नहीं किया गया है। क्योंकि इसे संकीर्ण परिभाषा से बांधा नहीं जा सकता है।

14. जन्म, विवाह मृत्यु सभी संस्कारों में उनकी निष्ठा का कोई परिचय न तो लिया जाता है न ही दिया जाता है। हर मामले में वह किसी आधुनिक देश में लागू किए गए सबसे आधुनिक संवैधानिक प्रावधानों (समता का अधिकार,
जीवन और वैचारिक धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार जैसे मूल अधिकारों की तरह) का सदियों से व्यक्तिगत और
सामाजिक स्वतंत्रता का उपभोग करते आ रहा है। उसके लिए कोई पर्सनल कानून नहीं है। वह शादी भी अपनी
मर्जी जिसमें सामाजिक मर्जी स्वयं सिद्ध रहता है, से करता है और तलाक भी अपनी मर्जी से करता है। लड़कियॉं सामाजिक रूप से लडकों की तरह की स्वतंत्र होतीं हैं। धर्म उनके किसी सामाजिक या वैयक्तिक कार्यों में कोई     बंधन नहीं लगाता है।

15. सरना, बनने के लिए किसी जाति में जन्म लेने की  जरूरत नहीं है। वह उरॉंव, मुण्डा, हो, संताल, खड़िया, महली या चिक-बड़ाइक या कोई भी समुदाय, कहीं के भी आदिवासी, मसलन, उड़िसा, छत्तीसगढ, महाराष्ट्र, गुजरात या केरल के हो सकते हों, जो किसी अन्य किताबों, ग्रंथों, पोथियों आधारित धर्म को नहीं मानता है और जिसमें सदियों पुरानी जीवन यापन के अनुसार जिंदगी और समाज चलाने की आदत रही है, सरना या प्राकृतिक धर्म का अनुगामी कहा जा सकता है। क्योंकि उन्हें नियंत्रित करने वाले न तो कोई संगठन है, न समुदाय है न ही उन्हें मानसिक और मनोवैज्ञानिक रूप से नियंत्रण में रखने वाला बहुत चालाकी से लिखी गई धार्मिक किताबें हैं। कोई भी आदमी सरना बन कर जीवन यापन कर सकता है क्योंकि उसे किसी धर्मांतरण के क्रिया कलापों से होकर गुजरने की जरूरत नहीं है।

16. सरना धर्म में सरना अनुगामी खुद ही अपने घर का पूजा पाठ या धार्मिक कर्मकांड करता है। लेकिन सार्वजनिक
पूजापाठ जैसे सरना स्थल में पूजा करना, करम और सरहूल में पूजा करना, गॉंव देव का पूजा या बीमारी दूर करने के लिए गॉंव की सीमा पर किए जाने वाले डंगरी पूजा वगैरह पहान करता है। पहान का चुनाव विशेष प्रक्रिया जिसे थाली और लोटा चलाना कहा जाता के द्वारा किया जाता है। जिसमें चुने गए व्यक्ति को पहान की जिम्मेदारी दी जाती है। लेकिन अलग अलग जगहों में पृथक ढंग से भी पहान का चुनाव किया जाता है। चुने गए पहान, पहनई जमीन पर आर्थिक अलंबन के लिए खेती-बारी कर सकता है या जरूरत न होने पर उसे चारागाह बनाने के लिए छोड सकता है। यहाँ भी सरना, किसी रूढ़ीवादी संकीर्ण विचारों से अनिवार्य रूप से बंधित नहीं है।

17. उल्लेखनीय है कि सरना पहान सिर्फ पूजा पाठ करने के लिए पहान होता है और उसका पद रूढ या स्थायी नहीं होता है। वह समाज को धर्म का सहारा लेकर नियंत्रित नहीं करता है। वह हमेशा पहान की भूमिका में नहीं रहता है, न ही उसका कोई विशिष्ट पोशाक या मेकअप होता है। वह सिर्फ पूजा करते वक्त ही पहान होता है। पूजा की समाप्ति पर अन्य सामाजिक सदस्यों की तरह ही सामान्यं सदस्य होकर समाज में रहता है और सबसे व्यवहार करता है। वह पहान होने पर कोई विशिष्टता प्राप्त नागरिक नहीं होता है, न ही विशिष्ट सम्मान और व्यवहार की अपेक्षा करता है।

18. अन्य धर्मो में पूजा करने वाला व्यक्ति न सिर्फ विशिष्ट होता है बल्कि वह हमेशा उसी भूमिका और पोशाक और
मेकअप में समाज के सामने आता है और आम जनता को उसे विशिष्ट सम्मान अदा करना पडता है। सम्मान नहीं अदा नहीं करने पर धार्मिक रूप से ”उदण्ड” व्यक्ति को सजा दी जा सकती है, उसकी निंदा की जा सकती है या व्यक्ति के धार्मिक अधिकारों को छीना जा सकता है। पहान धार्मिक कार्य के लिए कोई आर्थिक लाभ नहीं लेता है। वह किसी तरह का चंदा भी नहीं लेता है, न ही किसी प्रकार के पैसे इकट्ठा करने में सहभागी बनता है। वह अपनी जीविकोपार्जन स्वयं करता है और समाज पर आश्रित नहीं रहता है। सरना धर्म, में परजीविता का कोई स्थान नहीं है।

19. कई लोग अन्जाने में या शरारत वश सरना धर्म को हिन्दू धर्म का एक भाग कहते हैं और सरना आदिवासियों को हिन्दू कहते हैं। लेकिन दोनों धर्मो में कई विश्वास या कर्मकांड एक सदृश्य होते हुए भी दोनों बिल्कुल ही जुदा हैं। यह ठीक है कि सदियों से सरना और हिन्दू धर्म का सह-अस्तित्व रहा है। इसलिए कई बातें एक सी दिखती है। नाम वगैरह आदि में एकरूपता दिखता है। लेकिन नाम से कोई किसी और धर्म का नहीं हो जाता है। एक भूभाग में रहने वाले समाजों के बीच इस तरह के समानता का होना आश्चार्य की बात नहीं है। लेकिन यह याद रखना चाहिए कि आदिवासी सरना और हिन्दू धर्म के बीच विश्वास, सिद्धांत और आदर्श के मामलों में 36 का आंकडा है और वे सांस्कृतिक और ऐतिहासिक रूप से एक दूसरे के विरोधी रहे हैं।

20. आदिवासी मूल्य, विश्वास, अध्यात्म हिन्दू धर्म से बिल्कुल जुदा है इसलिए किसी आदिवासी का हिन्दू होना मुमकिन नहीं है। हिन्दू धर्म कई किताबों पर आधारित है और उन किताबों के आधार पर चलाए गए विचारों से यह संचालित होता है। याद कीजिए इन किताबों का आदिवासी समाज के लिए कोई महत्व नहीं है, न ही उसका समाज पर प्रभाव है। इन किताबों के लिए आदिवासियों के मन में सम्मान भी नहीं है न ही हिकारत। इन किताबों में आत्मा,पुर्नजन्म, सृष्टि और उसका अंत, चौरासी लाख देवी देवता, ब्राह्मणवाद की जमींदारी और मालिकाना विचार आदि केन्द्र बिन्दु है। हिन्दू धर्म में तमाम देवता राजा या वर्चस्ववादी रहे हैंजो एक दूसरे से युद्ध करते हुए रक्तपान करने वाली मानसिकता का पोषण करता है। आदिवासी कभी किसी के उपर वर्चस्व जमाना नहीं चाहा। हिंन्दू धर्म जातिवाद का जन्मदाता और पोषक है और सामांतवाद और मानवीय शोषण, आर्थिक ठगी को यहॉं धार्मिक मान्यता प्राप्त है। आज भी हिंदू शोषण और भेदभाव को हिंदू धर्म की जड़ मानते हैं। आदिवासी समाज सच्चे रूप में एक समाजवादी समाज हैं, वहीं हिन्दू में बड़े छोटे का न सिर्फ सिद्धांत कायम है, बल्कि छोटे हो दीनहीन और घटिया समझने के मानसिकता केन्द्र बिन्दु में हैं। यहॉं हिन्दू धर्म, सरना धर्म के उलट रूप में प्रकट होता है। ब्राहणवाद और जातिवाद से पीडित यह जबरदस्ती बहुसंख्यक, कर्मवीर और श्रमशील लोगों को नीच और घटिया घोषित करता है और लौकिक और परलौकिक विषयों की ठेकेदारी ब्राह्मण और उनके मनोवैज्ञानिक उच्चता का बोध कराने के लिए बनाए गए नियमों को सर्वोच्चता प्रदान करता है। हिंदू समाज में न्यायपू्र्ण सामाजिक व्यवस्था को नकारा गया है। यहाँ शोषण करने, अपने से तथाकथित रूप से कमजोर लोगों के साथ अन्याय को उचित माना गया है। यह वैज्ञानिक, मनोवैज्ञानिक और मानवीय रूप ये अत्यंत
अन्यायकारी और घृष्टातापूर्ण है। इंसानों को अन्याय पूर्ण रूप से धार्मिक भावनाओं के बल पर, जानवरों की तरह
गुलाम बनाने, ठगने के हर औजार इन किताबों में मौजूद है। आदिवासियों को दीन-हीन नीच समझने या मनवाने के षडयंत्र के रूप में आज के विकासमय समय में भी हिंदू धर्म संगठन उन्हें वनवासी शब्द से संबोधित करने का हर
मौका को काम में लाते हैं। आदिवासियों को भारतीय धरती पर न्यायपूर्ण स्थान देने के बदले वे उनके साथ अन्याय
करने के लिए खरबों रूपये व्यय कर रहे हैं। क्योंकि उनके धार्मिक अवधारणा में ही ऊँच-नीच और न्याय-अन्याय
गुंफित है।

21. किसी समुदाय या मानव को नीच और अन्याय का पात्र समझने की धार्मिक नियम, परंपरा और लोक व्यवहार
सरना समाज में मौजूद नहीं है। सरना समाज में जातिवाद और सामांतवाद दोनों ही नहीं है। यहॉं सिर्फ समुदाय है, जो न तो किसी दूसरे समुदाय से ऊँच है न नीच है। सरना धर्म के समता के मूल्य और सोच के बलवती होने के कारण किसी समुदाय के शोषण का कोई सोच और मॉडल न तो विकसित हुई है और न ही ऐसे किसी प्रयास को मान्यता मिली है। प्रथम दृष्टि में सरना धर्म की तरह ऊँच गुणों से संपन्न और कोई धर्म है ऐसा प्रतीत नहीं होता है।

22. कई लोग आदिवासियों को शिव, हनुमान और प्रकृति के अन्य प्रतीकों के पूजन को हिन्दू धर्म से जोड़कर इसे हिन्दू सिद्ध करना चाहते हैं। लेकिन सरना वालों ने कहीं इसका मंदिर न तो खुद बनाए हैं न ही सामाजिक धर्म और पर्वों में घरों में इनकी पूजा की जाती है। सरना किंवदती में भी ऐसी कथा नहीं मिलती है। किसी सरना गीत और लोक कथा में भी ऐसी कोई घटना नहीं मिलती है, जिससे सिद्ध हो कि हिंदू शिव और हनुमान ही आदिवासी देवता भी हैं। ऐतिहासिक रूप से अभी तक कुछ स्पश्ट नहीं हो पाया है लेकिन अनेक विद्वान हनुमान और शिव को प्रागआदिवासी मानते हैं। उराँव लोगो के बीच उनकी भाषा में मय्हदेव शब्द का चलन है, जिसका अर्थ मयहा देव अर्थात मया ननु देव अर्थात दयावान शक्ति के रूप में मान्यता है। हिन्दुओं के बीच हिन्दी में, महादेव का सामान्य अर्थ महा अर्थात् बड़ा और देव अर्थात देवता के रूप में मान्यता है। ऐसी अवधारणा आदिवासियों में नहीं है। तथ्य है कि वैदिक धर्मग्रंथ ‘‘वेद’’ में ‘‘महादेव’’ शब्द का प्रयोग नहीं है। अर्थात हिन्दु धर्म में महादेव अर्थात बड़ा देवता कहने की रिवाज पुराण काल में स्थापित हुआ, जो अनार्य दैविक शक्ति के समतुल्य एवं समानान्तर होकर सामंजस्य का कारण बना। हजारों सालों से एक ही धरती पर निरंतर साथ रहने के कारण दोनों के बीच ऐसा अंतरण होना संभव हुआ। लेकिन आदिवासी हिन्दू नहीं है यह स्पष्टं है। हिंदू धर्म, मुसलमान और ईसाई धर्म की तरह वर्चस्ववादी, विस्तारवादी, घमंडवादी, दूसरों पर अपने विचारों को जबरदस्ती थोपने वाला धर्म है, यही कारण है कि यह मानवीय हिंसा में विश्वास करने वाला धर्म के रूप में दूसरे विस्तारवादी धर्म के साथ अपना नाम लिखा लिया है। आदिवासी गाँवों में हिंदू देवी देवताओं के तस्वीरों का मुफ्त वितरण, आदिवासी गाँव अंचलों में मंदिरों का निर्माण, आदिवासी बालकों का अपने स्कूल में शिक्षा दान देकर आदिवासी मूल्य और संस्कृति को नष्ट करने के लिए उन्हें एजेंट के रूप में इस्तेमाल आदि करना, गरीब आदिवासियों का मंदिरों में ब्राह्मण द्वारा सामूहिक विवाह कराना, आदिवासियों को आदिवासियों के माईंडवाश करने की प्रक्रिया में शामिल करना और हिंदू बने लोगों को आदिवासियों का राजनैतिक नेता बनाना, उन्हें पद और पैसे का लोभ से पाट देना आदि बातें हिंदू धर्म को ईसाई और मुसलमान धर्मों की तरह हटधर्मी और विस्तारवादी धर्मों की पंक्तियों में बैठा दिया है। ईसाई धर्म का आदिवासियों के बीच प्रचार, शुद्ध धार्मिक सिद्धांत नहीं रहा है, बल्कि उसे शिक्षा और सेवा की आड़ में किया गया। यदि शुद्ध धार्मिक सिद्धांत के माध्यम से ईसाईयत का प्रचार किया जाता तो वह आदिवासी सोच-विचार और अवधारणा के विपरीत होने के कारण स्वीकार्य नहीं होता। लेकिन शिक्षा और स्वास्थ्य की आवश्यकता ने इसे स्वीकार्यता दिलाया है।

23. हाल ही में कुछ सरना लोग जो खुद को सरना के रूप में परिचय देते हैं और हिन्दुत्व, क्रिश्चिनिटी, इस्लाम के ऊपरी आवरण से प्रभावित हैं। इन लोगों ने सरना को परिभाषित करने, उसका कोई प्रतीक चिन्ह, तस्वीर, मूर्ति, मठ, पोथी आदि बनाने की कोशिश की है जिसे निहायत ही आईडेंटिटी क्राइसिस से जुझ रहें लोगों का प्रयास माना जा सकता है। इन चीजों के बनने से सरना धर्म के वैश्विक मूल्यों में हृास होगा और इसके अनुठापन खत्म होगा। इन चीजों की अनुपस्थिति ही सरना धर्म को दूसरे धर्मों से अलग एक विशिष्ट मूल्य और प्राकृतिक आवधारणा वाला बनाया है।

24. सरना धर्म में विचार, चिंतन की स्वतंत्रता उपलब्ध है। सरना वालों को किसी कट्टर सिद्धांतों को मानने का कोई
निर्देशन भी नहीं है, न ही नये विचारधारा पर चिंतन करने की मनाही है। अपने धार्मिक चिंतन को एक रूप देने के लिए ऐसा करने वाले भी स्वतंत्र हैं। लेकिन ऐसे परिवर्तन को सरना धर्म का अनुयायी कहना, एक मजाक के सिवा कुछ नहीं है। क्योंकि इनके विचारों में नयी धारा नहीं बल्कि दूसरे धर्म के उपरी आवरण की नकल करने का प्रयास है। सरना किसी मूर्ति, चिन्ह, तस्वीर या मठ का मोहताज नहीं है। लेकिन ऐसा करने में यह भी दूसरे धर्म की धार्मिक बुराईयों का शिकार हो जाएगा और यह अन्य धर्मो के सदृश्य उनका एक कार्बन कॉपी बन के रह जाएगा। सरना धर्म के विरोधी तो ऐसे कार्य कलापों को प्रोत्साहित करना पसंद करेंगे, क्योंकि इससे सरना धर्म का कद घटेगा, वहीं वे अपने धर्म की कमियों को सही साबित करने के लिए सरना को भी कई आवधारणों के गुलाम धर्म साबित करने में कामयाब होंगे। मूर्ति, तस्वीर, मठ आदि के रास्ते, सरना धर्म में एक बाजार, वर्चस्व, प्रभाव जमाने की बुराईयाँ आ जाएगी। ऐसी बुराईयाँ केन्द्रीय विचारधारा को नष्ट करके उसे एक साधारण धर्म बना देता है, जिसमें आर्थिक पक्ष सबल रहता है।

25. यदि सरना-दर्शन के शब्दों में कहा जाए तो यह सब चिन्ह अपनी आईडेंटिटी गढने, रचने और उसके द्वारा
वैयक्तिक पहचान बनाने के कार्य हैं। जिसका इस्तेमाल, सामाजिक कम राजनैतिक, सांस्कृतिक और वैचारिक साम्राज्य् गढ़ने और वर्चस्व स्थापित करने के लिए एक हथियार के रूप में किया जाता रहा है। ऐसे चीजों का अपना एक
बाजार होता है और उसके सैकड़ों लाभ मिलते हैं। लेकिन सरना दर्शन, सोच, विचार, विश्वास, मान्यता से बाजार का
कोई संबंध नहीं है। धार्मिक क्रिया कांड में मिट्टी के दीए और छोटे-मोटे मिट्टी-भांड तथा पत्तों, पुआलों का उपयोग
किया जाता है। मिट्टी का छोटा दीया, भाँड़, घड़ा आदि हजारों साल से स्थानीय लोगों के द्वारा ही निर्मित होता रहा है और इसका कोई स्थायी बाजार नहीं होता है। न ही इसका कोई सबल आर्थिक पक्ष होता है।

26. कु्ल मिला कर यही कहा जा सकता है कि सरना एक अमूर्त शक्ति को मानता है और सीमित रूप से उसका
आराधना करता है। लेकिन इस आराधना को वह सामाजिक, राजनैतिक और आर्थिक औजार के रूप में नहीं बदलता
है। वह आराधना करता है लेकिन उसके लिए किसी तरह के सौदेबाजी नहीं करता है। यदि वह करता है तो फिर वह कैसे सरना ? लेकिन किसी मत को कोई मान सकता है और नहीं भी, क्योंकि व्यक्ति के पास अपना विवेक होता है और यह विवेक ही उसे अन्य प्राणी से अलग करता है, विवेकवान होने के कारण अपनी अच्छाईयों को पहचान सकता है। सभी कोई अच्छाईयॉं, कल्याणकारी पथ खोजने के लिए स्वतंत्र हैं। इंसान की इसी स्वतंत्रता की जय-जय-कार हर युग में हर तरफ हुई है।

27. मूर्तियों, तस्वीरों के नाक, कान तो सिर्फ उगते हैं जब आदमी इन मूर्तियों के सामने भिखारी बन कर उनसे अपने
स्वार्थ के लिए भीख मांगता है। जब उनकी भीख मांगने के शब्द खत्म हो जाते हैं, तो वह लकड़ी या पत्थर या मेटल का मूर्ति या कागज की तस्वीर सिर्फ मूर्ति या तस्वीर भर बन के रह जाता है। सदियों से दुनिया में बार-बार लाखों बार कहा गया है कि धर्म आदमी के दिमाग और हृदय पर ही हो सकता है। प्राकृतिक शरीर के बाहर किसी धर्म का कोई अस्तित्व नहीं होता है और न हो सकता है। शरीर में दिमाग सोचता है, हृदय भावनाओं के अनुसार धड़कता है। आदमी किसी भी पूजा स्थल, प्रार्थनालय में जाए, वे अपने मन और हृदय के माध्यम से ही प्राकृतिक शक्ति (ईश्वर या भगवान या देवता) से संबंध जोड़ने का प्रयास करता है।किसी मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर, सरना स्थल आदि तमाम जगहें सिर्फ मनोवैज्ञानिक रूप से आदमी के मन को किसी प्राकृतिक शक्ति के अधीन होने का भ्रम पैदा करता है। यह भ्रम इसलिए भी होता है क्योंकि इसके लिए व्यक्ति के आदत करने की प्रकृति को विशेष तौर से काम में लगाया जाता है। आदमी में या अधिकतर प्राणी में एक ही कर्म या क्रिया बार-बार किए जाने के कारण वह दिमाग के किसी कोने में एक क्रम के रूप में कैद हो जाता है। यही कारण है कि लोगों को आदत के अनुसार किसी खास क्रिया करके संतोश प्राप्त होता है। तमाम धर्म, अबोध बच्चों को अपने दैनिक, साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक कार्यक्रमों के लिए पकड़ता है और उनके दिमाग में खास तौर से तैयार किए गए मैटर को बार-बार डाला जाता हैं। कालांतर में बच्चे जब बड़े हो जाते हैं तो उन्हें बार-बार कराए गए कार्य या क्रिया की ऐसी आदत लग चुकी होती है कि वह उससे सहज रूप से छुटकारा नहीं पा सकता है। इसे साधारण भाषा में कहें तो माईंडवाश की क्रिया बच्चों में किया जाता है और यह धर्म के नाम पर किया जाता है|काफी माता-पिता को लगता है कि वे अपने बच्चों के कल्याण के लिए उन्हें नैतिक और धार्मिक आदत डाल रहे हैं। लेकिन वर्षों तक बच्चों को ऐसी शिक्षा के कारण वे वैचारिकी रूप से स्वतंत्र रूप से विचार-विश्लेशण करने के नैसर्गिक शक्ति से रहित हो जाते हैं। इसी के कारण जो वैचारिकी रूप से स्वतंत्र विश्लेशण की शक्ति से रहित हो जाते हैं वे अपने धार्मिक क्रिया-कलापों पर आलोचनात्मक दृष्टिकोण विकसित नहीं कर पाते हैं और उनका सोच एकांगी हो जाता है। परिणाम स्वरूप धार्मिक कट्टरता, धार्मिक लड़ाईयाँ, धार्मिक भेदभाव, पक्षपात का जन्म ऐसे ही माईंडवाश्ड लोगों के कारण होता है।

28. सभी धर्म एक अपने खास धर्म के सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक, मनोवैज्ञानिक स्वार्थ, हित को इस माईंडवाश
क्रिया के माध्यम से साधने में अपना पूरा जोर लगा देता है। धर्म की इस माईंडवाश क्रिया के माध्यम से ही शासक
अप्रत्यक्ष रूप से उन लोगों पर भी शासन करता है, जो उनके तत्कालिक आर्थिक और राजनैतिक मॉडल को समर्थन नहीं देते हैं। लेकिन धार्मिक क्रिया के माध्यम से उनके सोचने की क्रिया को उत्तेजित करके अपने लक्ष्य को साधने में कामयाब रहते हैं। इसे प्रत्यक्ष रूप से इस तरह कहा जा सकता है – माना कि बीजेपी की आर्थिक और राजनैतिक नीति से असहमत हुए भी लोग किसी न किसी ऐसी पार्टी को वोट देंगे जो हिन्दुत्व के दर्शन में विश्वास करती है। भले वह त्रृणमूल हो, कांग्रेस हो या कोई अन्य पार्टी। एक हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई, सरना आदि इसी माईंडवाश क्रिया के कारण अपने से अलग आस्था वाले से पिल पड़ता है। जब भी कोई इस तरह के कार्यकलाप से जुड़ जाता है तो उसके कई कारण हो सकते हैं लेकिन कहीं न कहीं धार्मिक माईंडवाश क्रिया उसमें जरूर जुड़ी हुई होती है। माईंडवाश की
क्रिया, बिना मूर्ति, तस्वीर या प्रार्थनालय या पूजालय के नहीं हो सकता है। दिमाग और हृदय के माध्यम से आदमी कहीं भी किसी प्राकिृतक ईश्वर से जुड़ सकता है। लेकिन धर्म के नाम पर माईंडवाश करने वाले उन्हें प्राकृतिक रूप से स्वतंत्र होकर प्रार्थना या पूजा करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करते हैं। किसी मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर, सरना स्थल आदि तमाम जगहें सिर्फ मनोवैज्ञानिक रूप से आदमी के मन को किसी प्राकृतिक शक्ति के अधीन होने का भ्रम पैदा करता है। यह भ्रम इसलिए भी होता है क्योंकि इसके लिए व्यक्ति के आदत करने की प्रकृति को विशेष तौर से काम में लगाया जाता है।

29. आदमी में या अधिकतर प्राणी में एक ही कर्म या क्रिया बार-बार किए जाने के कारण वह दिमाग के किसी कोने में एक क्रम के रूप में कैद हो जाता है। यही कारण है कि लोगों को आदत के अनुसार किसी खास क्रिया करके संतोश प्राप्त होता है। तमाम धर्म अबोध बच्चों को अपने दैनिक, साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक कार्यक्रमों के लिए पकड़ता है और उनके दिमाग में खास तौर से तैयार किए गए मैटर को बार-बार डालते हैं। कालांतर में बच्चे जब बड़े हो जाते हैं तो उन्हें बार-बार कराए गए कार्य या क्रिया की ऐसी आदत लग चुकी होती है कि वह उससे सहज रूप से छुटकारा नहीं पा सकता है। इसे साधारण भाषा में कहें तो माईंडवाश की क्रिया बच्चों में किया जाता है और यह धर्म के नामपर किया जाता है।

30. माईंडवाश की क्रिया बिना मूर्ति, तस्वीर या प्रार्थनालय या पूजालय के नहीं हो सकता है। दिमाग और हृदय के
माध्यम से आदमी कहीं भी किसी प्राकिृतक ईश्वर से जुड़ सकता है। लेकिन धर्म के नाम पर माईंडवाश करने वाले उन्हें प्राकृतिक रूप से स्वतंत्र होकर प्रार्थना या पूजा करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करते हैं। यदि सभी स्वतंत्र होकर अपने धर्म को या ईश्वर को मानने लग जाएँ तो धर्म के नाम पर संस्थाएँ, संगठन चलाने वाले परजीवियों को खाने के लाले पड़ जाएँगे और उन्हें अपने मेकअप उतार कर पेट भरने के लिए श्रम करना पड़ेगा। इसलिए थोक के भाव में मुर्तियों और तस्वीरों का उत्पादन किया जाता है। यह उत्पादन, वितरण और उपभोग की व्यवस्था में शामिल होकर करोड़ों रूपये कमाई का साधन बन जाता है।

 

– नेह अर्जुन इंदवार

 

 

Spread the love

2 thoughts on “क्या है सरना (sarna) धर्म ?

  1. Admiring the persistence you put into your website and detailed information you provide. It’s awesome to come across a blog every once in a while that isn’t the same old rehashed material. Wonderful read! I’ve bookmarked your site and I’m adding your RSS feeds to my Google account.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *